अभी है उम्मीद

जिंदगी न मिलेगी दुबारा

21 Posts

40 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12850 postid : 45

दहेज में देनी होती है दो ट्यूब

Posted On: 28 Mar, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मंगल थांडा आंध्र प्रदेश के वारंगल जिले का एक ऐसा छोटा सा दूरदराज़ का गाँव है जहां शादी हो तो गरीब से गरीब परिवार को एक चीज़ अनिवार्य रूप से दहेज़ में देनी पड़ती है और वो है ट्रक की पुरानी टयूब.


इस अनूठे तोहफे का कारण ये है कि इस गांव का रास्ता एक नदी ने रोक रखा है. यहां के लोगों को अगर कोई चीज लेने बाहर जाना पड़ता है तो वो ट्यूब के सहारे ही नदी को पार करते हैं.मंगल थांडा पहुंचने का रास्ता इतना खराब है कि वहां गाड़ी से पहुंचना संभव नहीं है. आप पैदल जाना चाहें तो पांच किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी.


इस गांव को दुनिया से जोड़ने का दूसरा रास्ता एक नदी “वाट्टे वागू” ने रोक रखा है. इसीलिए इस गांव के हर परिवार का जीवन ट्रक की ट्यूब पर टिका हुआ है जिसे ये लोग एक नाव के तौर पर इस्तेमाल करते हैं.


ट्यूब का सहारा


“ट्यूब दिए बिना तो शादी की कल्पना भी नहीं हो सकती. पुराने ट्यूब की कीमत तीन सौ से पांच सौ रुपए होती है जबकि नई ट्यूब नौ सौ रुपए में मिलती है.


मंगल थांडा लम्बाडा आदिवासियों का एक ऐसा गांव है जो अपने राशन, स्कूल, अस्पताल, बैंक और सभी दूसरी बुनियादी सुविधाओं के लिए नदी के उस पार स्थित सुरिपल्ली गांव पर निर्भर है.वहां तक पहुंचने का एक मात्र माध्यम है ट्यूब जिसे उतना ही महत्व प्राप्त है जितना की डूबते हुए इंसान के लिए एक लाइफ़ जैकेट का होता है.


शायद इसीलिए हर माता पिता को अपनी बेटी के दहेज़ में एक नहीं, बल्कि दो ट्यूब देने पड़ते हैं. एक बेटी के लिए और दूसरा दामाद के लिए ताकि वो सुरक्षित तरीके से नदी पार जा आ सकें.जब मैं इस गांव में गया तो हर घर के बाहर एक ट्यूब ऐसे रखी थी जैसे कोई गाड़ी रखी हो, या कोई जानवर बंधा हो.

गांव के एक युवा तेजावत नवीन ने बताया, “ट्यूब दिए बिना तो शादी की कल्पना भी नहीं हो सकती. पुराने ट्यूब की कीमत तीन सौ से पांच सौ रुपए होती है जबकि नई ट्यूब नौ सौ रुपए में मिलती है ट्यूब इन लोगों के जीवन पर इतना छाया हुआ है कि जब एक नई नवेली दुल्हन कविता अपने मायके आई तो लोग उनसे ज्यादा उनकी ट्यूब की खैर खबर ले रहे थे.


ट्यूब पर निर्भर जिंदगी

इस गांव में हर घर में ट्यूब मिलेगी


एक और महिला तुक्कू भी वो दिन याद करके हंस रही थीं जब उनके विवाह में उनके पिता ने दो ट्यूब दिए थे. उनका कहना है कि हर वर्ष एक नई ट्यूब लेनी पड़ती है क्योंकि पुरानी ख़राब हो जाती है.


जानलेवा सफर


गांव के एक और व्यक्ति गुग्लत रामुलु का कहना है कि इस गांव में कोई सुविधा न होने से उन्हें हर चीज़ के लिए नदी पार सुरिपल्ली जाना पडता है जिसमें महीने का राशन भी शामिल होता है.


कभी कभी टयूब की ये यात्रा जानलेवा भी सिद्ध होती है.

गुस्से से भड़की भूक्य कोम्टी ने कहा, “दो वर्षों में चार लोग इस नदी को पार करने की कोशिश में डूब चुके हैं, इनमें तीन महिलाएं थीं. कभी पानी का बहाव इतना तेज़ हो जाता है कि यह ट्यूब भी हमें नहीं बचा सकती. आखिर हम कैसे जिंदा रहें. अगर हम दूसरे रास्ते से जाना चाहें तो कई घंटे लग जाते हैं. सुविधाओं का ये हाल है कि गांव में शौचालय तक नहीं है.”


रास्ता न होने के कारण कोई अधिकारी यहां नहीं आता है और न ही किसी कल्याण योजना का लाभ इन लोगों को मिल पाता है.


स्वाभाविक है कि सबसे ज्यादा परेशानी का सामना महिलाओं को करना पड़ता है वो भी गर्भवती महिलाओं को.


एक महिला जंबली ने बताया की बच्चे के जन्म के लिए अगर महिला को अस्पताल जाना पड़े तो कोई गाड़ी गांव तक नहीं आ सकती. अगर महिला को नरसमपेट अस्पताल जाना पड़े तो उसे पहले सुरिपल्ली गांव जाना होगा जबकि दूसरे रास्ते से आने वाला नेक्कुंदा का अस्पताल 12 किलोमीटर दूर है.


महिलाओं की तरह छात्रों को भी बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है क्योंकि गांव के स्कूल में केवल दो कक्षाएं हैं और आगे पढ़ने के लिए उन्हें नदी पार सुरिपल्ली के स्कूल जाना पड़ता है.


किसका दोष


महिलाओं को इस समस्या की वजह से खास तौर से दिक्कतों का सामना करना पड़ता है

इस गांव के सबसे शिक्षित व्यक्ति जूनियर कॉलेज पास राजिंदर का कहना है कि नदी पार करते हुए बच्चों के कपड़े गीले हो जाते हैं या कीचड़ में खराब हो जाते हैं. फिर स्कूल में अध्यापक उनकी पिटाई करते हैं कि ऐसी गन्दी हालत में क्यों आए.

ऐसा नहीं है कि गांव के लोगों ने अपनी दिक्कतों के लिए कहीं गुहार नहीं लगाई है. जब भी चुनाव आता है तो हर प्रत्याशी सड़क और पुल का वादा करता है लेकिन चुनाव के बाद उसे कुछ याद नहीं रहता.

एक महिला भनोट बुज्जी का मानना है कि दोष गांव के पुरूषों का भी है. “जो भी उमीदवार उन्हें शराब की एक बोतल दे देता है वो उसी को वोट दे देते हैं. उन्हें सड़क और पुल की परवाह नहीं होती. तकलीफ तो हम महिलाओं को उठानी पडती है.”



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yogi sarswat के द्वारा
March 30, 2013

बहुत नयी और अचंभित करने वाली पोस्ट

ashvinikumar के द्वारा
March 29, 2013

भारत मे ऐसे इलाके आम हैं,, जहां जीने की जद्दोजहद इतनी अधिक होती है की मौत भी जिंदगी से हसीन लगाने लगती है ,,,और उस पर वोट की राजनीति के कहने ही क्या ,,,………………………….जय भारत

SATYA SHEEL AGRAWAL के द्वारा
March 29, 2013

लावण्या जी,लेख के माध्यम से आपने, दूर दराज के गावों में व्याप्त समस्याओं की एक बानगी प्रस्तुत की है.जो बहुत ही मार्मिक लगी और जानकारी प्राप्त हुई की आजादी के लम्बे अरसे के बाद भी जनता कैसे कैसे कष्टों के साथ जीवन यापन कर रही है.वास्तव में आप साधुवाद की पात्र हैं.

    Lavanya Vilochan के द्वारा
    March 29, 2013

    धन्यवाद , SATYA SHEEL AGRAWAL ji

jlsingh के द्वारा
March 28, 2013

रोचक भी दुखद भी! रोचक इसलिए किआपका शीर्षक और रिवाज रोचक लगा! दुखद इसलिए कि अभी भी ऐसे ऐसे बहुत सारे गांव हमारे देश में हैं, जहाँ विकास की किरण नहीं पहुँची और हम महानगरों के विकास देख खुश होते हैं! महत्वपूर्ण जानकारी को प्रकाश में लाने के लिए आपका आभार. लगता है, मीडिया भी ऐसे दुर्गम क्षेत्र का रुख नहीं करती होगी!


topic of the week



latest from jagran